join

PM Kusum Yojana Online Registration|Kusum Solar Yojana

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group (5.8k Member) Join Now

kusum yojana registration|kusum solar pump|kusum solar pump yojana|mukhyamantri solar pump yojana|pm kusum solar yojana|kusum mahaurja registration|kusum mahaurja com solar beneficiary register:पीएम कुसुम योजना को लाने के पीछे सरकार का उद्देश्य है कि डीजल से चलने वाले पंपों को अधिक से अधिक सौर ऊर्जा से चलाया जाए. डीजल और बिजली की खपत कम हो और सौर ऊर्जा का प्रयोग कर ऊर्जा के स्रोत की सुरक्षा को बढ़ावा दिया जा सके.केंद्र सरकार ने पीएम कुसुम योजना को तीन साल के लिए और बढ़ा दिया है. अब इस योजना का लाभ किसान मार्च 2026 तक उठा सकते हैं. इस स्कीम की शुरुआत 2019 में की गई थी. इस योजना के तहत गांव क्षेत्र में सोलर पावर प्लांट लगाया जाता है. सोलर प्लांट की मदद से किसान फ्री बिजली का लाभ उठा सकते हैं. इस योजना का उद्देश्य साल 2022 तक 30800 मेगावाट की अतिरिक्त सौर क्षमता प्राप्त करना था.

लोकसभा में नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री आरके सिह ने लिखित उत्तर में कहा कि कोरोना महामारी के कारण पीएम-कुसुम के कार्यान्वयन की गति काफी प्रभावित हुई है. एक अन्य प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा, देश में 39 पनबिजली परियोजनाओं में से नौ पर काम रुका हुआ है|केंद्र सरकार द्वारा संचालित पीएम कुसुम योजना के अंतर्गत किसानों को सोलर पंप लगवाने पर 90% तक की सब्सिडी का ऑफर दिया जा रहा है। कृषक प्रधानमंत्री कुसुम योजना का आवेदन करके ले सकेंगे सब्सिडी का लाभ। साथ ही आपको बता दें कि बंजर भूमि को भी उपयोग में लाया जा सकेगा। इस योजना का लाभ देश के सभी किसान उठा सकेंगे और अपनी जमीन में सोलर पंप लगवाकर आसानी से सिंचाई कर सकेंगे।

pm kusum yojana

देश के जो किसान सिचाई पम्पो को डीज़ल या पेट्रोल की मदद से चलाते है अब उन पंपों को  इस Kusum Yojana के अंतर्गत सोर ऊर्जा से चलाया जायेगा | इस योजना के पहले चरण में देश के 1 .75 लाख पंप जो डीजल और पेट्रोल से चलते है उन्हें सोलर पैनल की सहायता से चलाया जायेगा |Kusum Yojana के अंतर्गत राज्य सरकार द्वारा 17.5 लाख डीज़ल पम्पो और 3 करोड़ खेती उपयोगी पम्पस को आगे आने वाले 10 वर्षो में सोलर पम्पस में परिवर्तित किये जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। ये राजस्थान के किसानो के लिए महत्वपूर्ण योजना है । सरकार द्वारा राज्य के किसानो के खेतो में सोलर पंप लगाने और सोलर उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए प्रारंभिक बजट 50 हजार करोड़ रुपयों का आवंटन किया गया है।

प्रधानमंत्री कुसुम योजना को केंद्र सरकार द्वारा शुरू किया गया है। PM Kusum Yojana के अंतर्गत किसानों को सिंचाई के लिए सोलर पैनल की सुविधा दी गयी है। इस योजना के अंतर्गत सोलर पंप लगाने में आने वाले खर्चे की कुल लागत का 90 प्रतिशत व्यय सरकार द्वारा वहन की जाएगी। शेष 10 प्रतिशत लागत का भुगतान स्वयं किसानों द्वारा किया जाएगा। साथ ही आपको बता दें की सोलर पंप किसानों की आय का साधन बनेगा।

PM Kusum Yojana 2023 

आर्टिकल किसके बारे में हैकुसुम योजना
किस ने लांच की स्कीमभारत सरकार
लाभार्थीभारत के किसान
उद्देश्यकिसानों को सिंचाई करने के लिए सौर पंप प्रदान करना
ऑफिशियल वेबसाइटयहां क्लिक करें
साल2023
स्कीम उपलब्ध है या नहींउपलब्ध

PM Vishwakarma Kaushal Vikas Yojana Online Apply

pm kusum solar yojana का उद्देश्य

PM Kusum Yojana का उद्देश्य है कि देश के सभी किसानों को सिंचाई के लिए सौर ऊर्जा से चलने वाले पंप को मुहैया कराना है। यदि किसानों के पास सौर ऊर्जा से चलने वाले पंप है तो उन्हें पेट्रोल या डीज़ल से चलने वाले पंपों का प्रयोग नहीं करना पड़ेगा। और इससे पैसों की बचत होगी और उनके जीवन में भी सुधार आएगा। केंद्रे सरकार इसी के साथ पावर ग्रिड भी देगी। जिसके द्वारा बिजली बचाकर किसान सीधे बिजली सरकार को बेच सकते हैं।इससे किसानों की आय में भी वृद्धि होगी।इस बात पर ध्यान देते हुए केंद्र सरकार ने PM Kusum Yojana 2023  को शुरू किया है इस योजना का मुख्य उद्देश्य देश के किसानो को मुफ्त में बिजली उपलब्ध करवाना | इस योजना के तहत किसानो  को सिचाई के लिए सोलर पैनल की सुविधा प्रदान करना जैसे वह अपने खेतो कि अच्छे से सिचाई कर सके | इस कुसुम योजना 2023 के ज़रिये किसान को दोहरा फायदा होगा 

kusum solar pump yojana

Kusum Yojana के अंतर्गत ऑनलाइन तथा ऑफलाइन दोनों माध्यमों से आवेदन किया जा सकता है। इस योजना के अंतर्गत सौर ऊर्जा संयंत्र की स्थापना हेतु तथा भूमि लीज पर देने हेतु आवेदन किया जा सकता है। वह सभी आवेदन कर्ता जिन्होंने अपनी भूमि लीज पर देने के लिए पंजीकरण करवाया है उनकी सूची आरआरईसी द्वारा आधिकारिक वेबसाइट पर प्रदर्शित की जाएगी। वे सभी नागरिक जो सौर ऊर्जा संयंत्र लगाने के लिए भूमि लीज पर लेना चाहते हैं वह आवेदकों की सूची आरआरईसी की वेबसाइट से प्राप्त कर सकते है जिसके पश्चात वह पंजीकृत आवेदकों से संपर्क करके संयंत्र लगाने के लिए आवेदन कर सकते हैं।

यदि आवेदक द्वारा ऑनलाइन पंजीकरण किया गया है तो आवेदक को एप्लीकेशन आईडी प्राप्त होगी। आवेदक को ऑनलाइन आवेदन की स्थिति में आवेदन पत्र के प्रिंट आउट को प्रिंट आउट अपने पास सुरक्षित रखना होगा। यदि आवेदक द्वारा ऑफलाइन आवेदन किया गया है तो आवेदक को एक रसीद दी जाएगी जो की आवेदक को संभाल कर रखनी होगी। आवेदन करने के लिए आवेदन द्वारा सभी महत्वपूर्ण दस्तावेज जमा करने होंगे।

Mahila Bachat Yojana 2023

Kusum Yojana आवेदन शुल्क

इस योजना के अंतर्गत आवेदक को सौर ऊर्जा संयंत्र के लिए आवेदन करने के लिए ₹5000 प्रति मेगावाट तथा जीएसटी की दर से आवेदन शुल्क का भुगतान करना होगा। यह भुगतान प्रबंध निर्देशक राजस्थान अक्षय ऊर्जा निगम के नाम से डिमांड ड्राफ्ट के रूप में किया जाएगा। आवेदन करने के लिए 0.5 मेगावाट से लेकर 2 मेगावाट तक के लिए आवेदन शुल्क कुछ इस प्रकार है।

मेगा वाटआवेदन शुल्क
0.5 मेगावाट₹ 2500+ जीएसटी
1 मेगावाट₹5000 + जीएसटी
1.5 मेगावाट₹7500+ जीएसटी
2 मेगावाट₹10000+ जीएसटी

वित्तीय संसाधनों का अनुमान

i) किसान द्वारा प्रोजेक्ट लगाने पर

सौर ऊर्जा संयंत्र की क्षमता1 मेगावाट
अनुमानित निवेश3.5 से 4.00 करोड़ रुपए प्रति मेगावाट
अनुमानित वार्षिक विद्युत उत्पादन17 लाख यूनिट
अनुमानित टैरिफ₹3.14 प्रति यूनिट
कुल अनुमानित वार्षिक आय₹5300000
अनुमानित वार्षिक खर्च₹500000
अनुमानित वार्षिक लाभ₹4800000
25 वर्ष की अवधि में कुल अनुमानित आय12 करोड़ रुपया

ii) किसान द्वारा भूमि लीज पर देने पर

1 मेगावाट हेतु भूमि की आवश्यकता2 हेक्टेयर
प्रति मेगावाट विद्युत उत्पादन17 लाख यूनिट
अनुमति लीज रेंट1.70 लाख से 3.40 लाख

mukhyamantri solar pump yojana के लाभ

  • कुसुम योजना के तहत कमदरों पर सिंचाई करने के लिए सौर पंप प्रदान किये जाएंगे।
  • कुसुम योजना का लाभ देश का कोई भी किसान ले सकता है।
  • योजना के तहत  किसानों को 10 फीसदी लागत का देना होगा।
  • 2023 तक कुसुम योजना के दवरा कम से कम तीन करोड़ पंपों को डीजल और बिजली की जगह सौर ऊर्जा से चलाने का लक्ष्य केंद्र सरकार ने निर्धारित किया है।
  • Kusum Yojana के द्वारा अगर किसान अतिरिक्त बिजली बचाकर किसी भी सरकारी या गैर सरकारी बिजली विभाग को भेजेंगे तो उसकी कीमत किसान को मिल जायगी। इसके द्वारा किसानों को 1 महीने में 6000 रूपये तक मिल सकते हैं।
  • कुसुम योजना के द्वारा कम से कम 28000 मेगावाट एक्स्ट्रा बिजली का उत्पादन हो सकता है।
  • कुसुम योजना के तहत पहले चरण में 17।5 लाख सिंचाई पंपों को सौर ऊर्जा में चलाया जाएगा।
  • डीजल खपत में कमी आएगी।
  • किसानों की आय में वृद्धि होगी।
  • PM Kusum Yojana के तहत आने वाले खर्चे में 60% केंद्र सरकार देगी 30% बैंक लोन से आर्थिक सहायता दी जाएगी अथवा किसान को सिर्फ 10% लागत का भुगतान करना पड़ेगा।
  • उन सारे राज्यों में जहां सूखा पड़ता है और बिजली की परेशानी रहती है उन राज्यों में कुसुम योजना बहुत फायदेमंद साबित होगी।
  • सौर प्लांट से 24 घंटे बिजली रहेगी।

Maharashtra Kusum Solar Pump Yojana

कुसुम योजना के लाभार्थी

  • किसान
  • किसानों का समूह
  • सहकारी समितियां
  • पंचायत
  • किसान उत्पादक संगठन
  • जल उपभोक्ता एसोसिएशन

Kusum Yojana की पात्रता

  • आवेदक भारत का स्थाई निवासी होना चाहिए।
  • कुसुम योजना के अंतर्गत 0.5 मेगावाट से 2 मेगावाट क्षमता तक के सौर ऊर्जा संयंत्र के लिए आवेदक द्वारा आवेदन किया जा सकता है।
  • आवेदक द्वारा अपनी भूमि के अनुपात में 2 मेगावाट क्षमता या फिर वितरण निगम द्वारा अधिसूचित क्षमता (दोनों में से जो भी कम हो) के लिए आवेदन कर सकता है।
  • प्रति मेगावाट के लिए लगभग 2 हेक्टेयर भूमि की आवश्यकता होगी।
  • इस योजना के अंतर्गत स्वयं के निवेश से प्रोजेक्ट के लिए किसी भी प्रकार की वित्तीय योग्यता की आवश्यकता नहीं है।
  • यदि आवेदक द्वारा किसी विकासकर्ता के माध्यम से प्रोजेक्ट विकसित किया जा रहा है तो विकासकर्ता की नेटवर्थ 1 करोड़ रुपए प्रति मेगावाट होनी अनिवार्य है।

महत्वपूर्ण दस्तावेज

  • आधार कार्ड
  • राशन कार्ड
  • रजिस्ट्रेशन की कॉपी
  • ऑथराइजेशन लेटर
  • जमीन की जमाबंदी की कॉपी
  • चार्टर्ड अकाउंटेंट द्वारा जारी नेटवर्थ सर्टिफिकेट (विकासकर्ता के माध्यम से प्रोजेक्ट विकसित करने की स्थिति में)
  • मोबाइल नंबर
  • बैंक खाता विवरण
  • पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ

PM Kusum Yojana Online Registration @ kusum.mahaurja.com login

  • सर्वप्रथम आवेदक को योजना की Official website पर जाना होगा | Official Website पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल जायेगा |
  • इस होम पेज पर आपको  पंजीकरण “Online Registration” का विकल्प दिखाई देगा इस विकल्प पर क्लिक करे |इसके बाद आवेदन फॉर्म में पूछी गयी सभी जानकारी जैसे Name ,Address ,Aadhar Card Number ,Mobile Number आदि भरनी होगी |
Apply Online Kusum Yojana
  • अभी जानकारी भरने के बाद आखिर में Submit के बटन पर क्लिक करे | सफल पंजीकरण के बाद आपको चयनित लाभार्थियों को सौर पंप सेट की 10% लागत विभाग द्वारा अनुमोदित आपूर्तिकर्ताओं को जमा करने के लिए निर्देशित किया जाता है।
  • इसके बाद कुछ ही दिनों में अपने खेतो में सोलर पम्प लगा दिए जायेगे |

Important Links

राज्यलिंक्स
आंध्र प्रदेश यहां क्लिक करें
अरुणाचल प्रदेश यहां क्लिक करें
असम यहां क्लिक करें
बिहारयहां क्लिक करें
छत्तीसगढ़यहां क्लिक करें
गोवायहां क्लिक करें
गुजरातयहां क्लिक करें
हरियाणायहां क्लिक करें
हिमाचल प्रदेशयहां क्लिक करें
झारखंडयहां क्लिक करें
कर्नाटकयहां क्लिक करें
केरलायहां क्लिक करें
मध्य प्रदेशयहां क्लिक करें
महाराष्ट्रयहां क्लिक करें
मणिपुरयहां क्लिक करें
मेघालययहां क्लिक करें
मिजोरमयहां क्लिक करें
नागालैंडयहां क्लिक करें
ओडीशायहां क्लिक करें
पंजाबयहां क्लिक करें
राजस्थानयहां क्लिक करें
सिक्किमयहां क्लिक करें
तमिल नाडुयहां क्लिक करें
तेलंगानायहां क्लिक करें
त्रिपुरायहां क्लिक करें
उत्तर प्रदेशयहां क्लिक करें
उत्तराखंडयहां क्लिक करें
वेस्ट बंगालयहां क्लिक करें
अंडमान एंड निकोबार आईलैंडयहां क्लिक करें
चंडीगढ़यहां क्लिक करें
दादर एंड नगर हवेली एंड दमन एंड दिउयहां क्लिक करें
दिल्लीयहां क्लिक करें
जम्मू एंड कश्मीरयहां क्लिक करें
लद्दाखयहां क्लिक करें
लक्षदीपयहां क्लिक करें
पुदुचेरीयहां क्लिक करें

कुसुम योजना ऑनलाइन फॉर्म कैसे भरें?

 कुसुम योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया सबसे पहले आपको इसकी आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा, कुसुम योजना (pmky) की आधिकारिक वेबसाइट पर जाने के लिए यहां क्लिक करें । पोर्टल को लॉगइन करना होगा, लॉगिन करने के लिए पोर्टल पर दिए गए रेफरेंस नंबर का प्रयोग करें ।

कुसुम योजना कब शुरू होगी?

इस बात पर ध्यान देते हुए केंद्र सरकार ने PM Kusum Yojana 2023 को शुरू किया है इस योजना का मुख्य उद्देश्य देश के किसानो को मुफ्त में बिजली उपलब्ध करवाना | इस योजना के तहत किसानो को सिचाई के लिए सोलर पैनल की सुविधा प्रदान करना जैसे वह अपने खेतो कि अच्छे से सिचाई कर सके | इस कुसुम योजना 2023 के ज़रिये किसान को दोहरा फायदा

कुसुम योजना का लाभ कैसे मिलेगा?

पीएम कुसुम योजना के तहत किसानों को खेत में सोलर पंप लगाने के लिए किसानों को सरकार की ओर से 60 प्रतिशत तक सब्सिडी दी जाती है। इसमें 30 प्रतिशत केंद्र सरकार और 30 प्रतिशत राज्य सरकार सहायता देती है। वहीं इसके लिए 30 प्रतिशत बैंक द्वारा ऋण लिया जा सकता है।

PM कुसुम योजना में कितना खर्चा आता है?

इस योजना के अंतर्गत सोलर पंप लगाने में आने वाले खर्चे की कुल लागत का 90 प्रतिशत व्यय सरकार द्वारा वहन की जाएगी। शेष 10 प्रतिशत लागत का भुगतान स्वयं किसानों द्वारा किया जाएगा